शुक्रवार, 14 मार्च 2008

हौसलों के हाथ-पैर...

बिनु पग चले, सुने बिनु काना, कर बिनु कर्म, करे विधि नाना.
यह चौपाई निराकार BRAMHA के लिए लिखी गई है लेकिन लगता है ईमानदार हौसले से मिलने वाली अचूक सफलता में भी इसी BRAMHA का अंश आ जाता है. तभी तो हौसले को हाथ-पैर बनाकर ब्राजील की यह बच्ची आकर्षक नृत्य कर रही है. दृश्य ब्राजील के शहर सॉओ पॉलो में शनिवार को आयोजित सांबा स्कूल परेड का. -एपी

2 टिप्‍पणियां:

Raman kant Sharma ने कहा…

Very Good Tarun.
It's supurb to see your continuous work on Disable people. Very nice.
Raman.
TOI, ND

kamal midha ने कहा…

hey tarun now u r real patarkar!